21 सितंबर 2010

हाथ जोड़कर एक अपील





24 तारीख़ को बाबरी मस्ज़िद विवाद का हाईकोर्ट से फैसला आना है।

तय है कि यह एक समुदाय के पक्ष में होगा तो दूसरे के ख़िलाफ़। ऐसे में पूरी संभावना है कि लोकतंत्र में विश्वास न रखने वाली ताक़तें 'धर्म के ख़तरे में होने' का नारा लगा कर जनसमुदाय को भड़काने तथा हमारा सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का प्रयास करेंगी। फ़ैसला आने से पहले ही इसके आसार नज़र आने लगे हैं।

दो दिन बाद … यानि 27 सितम्बर को भगत सिंह का जन्मदिन है। आप जानते हैं कि पंजाब में उस वक़्त फैले दंगों के बीच भगत सिंह ने 'सांप्रदायिक दंगे और उनका इलाज़' लेख में सांप्रदायिक ताक़तों को ललकारते हुए कहा था कि दंगो की आड़ में नेता अपना खेल खेलते हैं और असली मर्ज़ यानि कि विषमता पर कोई बात नहीं होती।

इन दंगो ने हमसे पहले भी अनगिनत अपने और हमारा आपसी प्रेम छीना है। आईये आज मिलकर ठंढे दिमाग़ से यह प्रण करें कि अगर ऐसा महौल बनाने की कोशिश होती है तो हम इसकी मुखालफ़त करेंगे…और कुछ नहीं तो हम इसमें शामिल नहीं होंगे।

ग्वालियर में हमने इस आशय के एस एम एस व्यापक पैमाने पर किये हैं। आप सबसे भी हमारी अपील इसी संदेश को जन-जन तक पहुंचाने की है।

आईये भगत सिंह को याद करें और सांप्रदायिक ताक़तों को बर्बाद करें। यह एक ख़ुशहाल देश बनाने में हमारा
सबसे बड़ा योगदान होगा।
हमने इस साल भगत सिंह के जन्मदिन को 'क़ौमी एकता दिवस' के रूप में मनाने का भी फैसला किया है।

16 टिप्‍पणियां:

Suman ने कहा…

nice

rashmi ravija ने कहा…

बहुत ही उतम विचार हैं, भगत सिंह के जन्मदिन को 'कौमी एकता दिवस' के रूप में मनाने की...इस प्रयास के सफल होने की अनेक शुभकामनाएं
अपने स्तर पर कोशिश रहती ही है कि साम्प्रदायिक साहौर्द का माहौल बना रहें और भेदभाव की भावना ना पनपे.

Pallav ने कहा…

तमाम जनवादी संगठनों को एक होकर मजबूती से सामने आना होगा, और कोशिश करनी होगी की एक दूसरा 1993 या एक दूसरा गुजरात न बन पाए। अवाम की वैचारिक समझ को बढाने के लिए हर स्तर पर काम करना जरूरी होगा।
अमन की इस आशा को उम्मीद है कि और भी साथियों का सहयोग मिल पाएगा।

mukti ने कहा…

जी हम आपके साथ हैं और भगत सिंह के जन्मदिवस को कौमी एकता दिवस के रूप में मनाने का स्वागत करते हैं.

विजय गौड़ ने कहा…

manushay ki swabhaweek pravarti hinsa nahi hai. dharam aur jati ke batware ne use hinsak banaya hai. mool baat hai hi ese kisi bhi batware ki mukhalafat ho.

डॉ दुर्गाप्रसाद अग्रवाल ने कहा…

आपकी इस पहल का मैं सम्मान और स्वागत करता हूं. हमारी कोशिश होनी चाहिए कि फैसला चाहे जो हो, सौहार्द्र बना रहे.

manoj chhabra ने कहा…

uttam vichar hai...

manoj chhabra ने कहा…

uttam vichar hai...

माधव ने कहा…

nice

गजेन्द्र सिंह ने कहा…

बहुत ही उतम विचार हैं, भगत सिंह के जन्मदिन को 'कौमी एकता दिवस' के रूप में मनाने की...इस प्रयास के सफल होने की अनेक शुभकामनाएं

पर ये बात आम जनता को समझनी चाहिए कि सब एक है .....

इसे भी पढ़े और कुछ कहे :-
http://thodamuskurakardekho.blogspot.com/2010/09/86.html

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

स्वागतयोग्य पहल है!

varsha ने कहा…

ham saath-saath hain aur hamzubaan bhi

शरद कोकास ने कहा…

यह एक ज़रूरी अपील है ।

Udan Tashtari ने कहा…

उम्दा विचार और आवश्यक अपील!

ZEAL ने कहा…

.

आपकी अपील में मेरी भी अपील शामिल है। ये समय आपसी मतभेदों का नहीं बल्कि विदेशी ताकतों से अपने देश की सुरक्षा करने का है ।

इसी विषय से सम्बंधित निम्नलिखित पोस्ट भी देखिये --

ठुमक चलत रामचंद्र , बाजत पैजनिया --रामकोट-अयोध्या -- और मेरा बचपन !

http://zealzen.blogspot.com/2010/09/blog-post_19.html

आभार

.

MAYUR ने कहा…

hindustaan zindabaad, ham bhi aapki apeel ko apne blog par laga rahe hain