08 जनवरी 2009

तीसरा राज्य स्तरीय युवा चिन्तन शिविर 2009


विगत वर्षो की तरह इस वर्ष भी युवा सम्वाद की विभिन्न जिला इकाईयों द्वारा भोपाल में दिनांक 30,31 जनवरी व 01 फरवरी २009 को आइकफ आश्रम, शाहपुरा झील के पास तीन दिवसीय आवासीय शिविर का आयोजन किया जा रहा है। शिविर के लिये प्रस्तावित कार्ययोजना निम्नानुसार है



प्रथम दिवस 30।01।2009 1 इतिहास एवं समाजिक परिवर्तन - समय प्रात: 10:00 बजे से 1 बजे तक - वक्ता : उमा शंकर तिवारी, प्रोफेसर आई. आई.आई टी , इलाहाबाद


2 साम्प्रदायिकता की राजनीति व उसका सामाजिक आयाम और विकल्प - समय दोपहर 2 बजे से 5 बजे तक - वक्ता : सुभाष गताड़े, सामाजिक चिंतक - दिल्ली


3 सांस्कृतिक कार्यक्रम के विभिन्न तरीकों पर चर्चा व प्रस्तूति की तैयारी समय साम 6 बजे से 8 बजें तक - सहजकर्ता - ‘‘संवेदन सास्कृतिक कार्यक्रम ’’ के साथी, अहमदाबाद


दुसरा दिवस 31.01.2009


1 युवा - छात्र व राजनैतिक हस्तक्षेप समय प्रात: 10:00 बजे से 1:00 बजें तक - वक्ता : अशोक कुमार पाण्डेय, ग्वालियर


2 युवा सम्वाद - अभी तक का सफर व भविष्य की रणनीति समय दोपहर 2 बजे से 6 बजे तक सहजकर्ता अजय गुलाटी - ग्वालियर, फैज - देवास, उपासना - भोपाल,


3 सांस्कृतिक कार्यक्रम के विभिन्न तरीकों पर चर्चा व प्रस्तुति की तैयारी शाम 6:30 बजे से 8 :30 बजें तक - सहजकर्ता - ‘‘संवेदन सास्कृतिक कार्यक्रम ’’ के साथी, अहमदाबाद


तीसरा दिवस 01.02.2009


1 संस्कृति व आधुनिकता - समय प्रात: 10 बजे से 1 बजे तक - वक्ता - हिरेन गांधी, , अहमदाबाद व प्रदीप भोपाल ।


2 मध्य प्रदेश में समाजिक जन-आंदोलन का इतिहास-प्रभाव व भविष्य : समय दोपहर 2 बजे से साम 4 बजे तक : वक्ता योगेश दिवान, राजनैतिक कार्यकर्ता, होशंगाबाद


3 कला व उसके प्रदर्शन के विभिन्न आयाम : समय 4 बजे से 5:30 बजे तक : वक्ता स्वरूप बेन व हिरेन गांधी ।


4 सांस्कृतिक संध्या का आयोजन शाम 6 बजे से


सम्पर्क


जावेद :9424401459 @ गौरव :9713420233 @ फैज : ९८२६११००८४ अशोक:9425787930 @ देवेश:09981583770 @ इमरान : ९३००७७५४१६ उपासना :9424401469

5 टिप्‍पणियां:

K.P.Chauhan ने कहा…

विगत दो वर्षों में जो युवा चिंतन शिविरों का आयोजन किए aगए उनके कितने ठोस परिणाम आए मैं जानना चाहता हूँ क्योंकि मुझे ऐसा प्रतीत होता है की युवाओं को ,खासकर क्षात्रों को राजनीती में केवल इस्तेमाल किया जाता है क्रप्या इस बार इस विषय पर भी चर्चा कराएँ वैसे भी इस प्रकार के आयोजनों से राष्ट्रिय एकता को बढावा मिलता है

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

चॉहान साहब ,
आपकी चिन्ता बिल्कुल जेनुईन है।
युवा सम्वाद पिछ्ले 3 वर्षों से मध्यप्रदेश मे न केवल अपनी उपस्थिति दर्ज़ करा रहा है बल्कि हस्तक्षेप भी।
राजनीति केवल सत्ता की नही व्यव्स्था परिवर्तन की भी होती है। हमारे केन्द्र मे वही राजनीति है।खुद को बेहतर बनाते हुए एक बेहतर दुनिया का सन्कल्प हमारा प्रेरणास्रोत है और पथप्रदर्शक भी।

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

ऐसे सार्थक आयोजनों के लिए
मंगलकामनायें ।
एक उम्‍मीद जगती है
रोशनी दिखती है
जो रोशनी दिखती है
अवश्‍य रोशन जहां करेगी
नहीं किसी का मकां करेगी।

Abhishek ने कहा…

Aapke shivir ke nishkarson ki pratiksha rahegi.

Harkirat Haqeer ने कहा…

hame pratikiriya ka intjar rahega....